52 किलो मछली ने रातों रात बदल दी बुजुर्ग महिला की किस्‍मत, मिनटों में बना दिया लखपति

    1
    479454

    एक बुजुर्ग महिला की किस्मत

    एक दिन में बदल गई और ये गरीब महिला लखपति बन गई। बताया जा रहा है कि ये बुजुर्ग महिला मछली पकड़ने का काम करती है। रोज ये समुद्र से मछली पकड़कर उसे बाजार में बेचने जाया करती थी। वहीं हाल ही में इस महिला के हाथ काफी बड़ी मछली लग गई। जिसे बेचकर ये लखपति बन गई। ये घटना पश्चिम बंगाल की है। खबर के अनुसार इस राज्य की पुष्‍पा नाम की महिला को 52 किलोग्राम वजन की एक मछली समुद्र से मिली है। जिसकी कीमत 3 लाख रुपए से अधिक लगाई गई है

    पश्चिम बंगाल के दक्षिणी सिरे में

    सागर द्वीप के चकपुतडुबी गांव की रहने वाली पुष्पा को ‘भोला’ प्रजाति की मछली मिली है। जिसका वजन 52 किलोग्राम था। जब ये मछली बाजार में बेचने गई तो इसकी कीमत सुनकर हैरान रह गई। इस मछली के बदले पुष्पा को तीन लाख से अधिक रुपए दिए गए। वहीं इतने पैसे मिलने पर पुष्पा ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि ‘मैंने जीवन में कभी भी इतना पैसा नहीं देखा। थोक बाजार में मछली को 6,200 रुपये प्रति किलोग्राम में बेचकर 3 लाख रुपये से अधिक पैसे कमाए हैं।’

    पुष्पा ने बताया कि वो मंगलवार की सुबह

    मछली पकड़ने के लिए समुद्र गई थीं। उस दौरान मुझे बेहद ही बड़ी मछली दिखाई दी, जो कि मैंने पकड़ ली। पुष्पा के अनुसार उन्होंने कभी भी अपने जीवन में इतनी बड़ी मछली को नहीं देखा था। इसे बंगाली में भोला मछली कहा जाता है। उनके गांववालों का कहना है कि मछली का आकार और कीमत दोनों बहुत ज्यादा हैं।

    लोगों की मदद से पहुंचया गया घर

    52 किलो मछली को पकड़ने में काफी दिक्कत हुई। वहीं इस मछली को पकड़ने के बाद इसे घर लाना मुश्किल हो गया था। ऐसे में गांव वालों ने पुष्पा की मदद की और मछली को पकड़कर घर लाया गया। गांव वालों के अनुसार ये मछली काफी विशाल थी और अगर ये मछली मरी नहीं होती। तो इसके और अधिक दाम मिल जाते।

    गौरतलब है कि इससे पहले भी

    ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां एक मछली ने लोगों की जिंदगी को बदल दिया है। कुछ साल पहले दो भाईयों को एक मछली ने लखपति बना दिया था। इन भाईयों के जाल में एक ऐसी मछली फंसी जिसकी कीमत 5 लाख रुपए लगाई गई थी। इस मछली की वजन 30 किलो था।

    1 COMMENT

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.