भारत को पायलट की रिहाई से कम मंजूर नहीं, पाकिस्‍तान की पेशकश ठुकराई, मोदी जी ने कहा…

0
464

बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर भारत की कार्रवाई से पाकिस्तान घबरा गया है. बीते कुछ दिनों में भारत ने आर्थिक और राजनयिक मोर्चे पर जिस तरह से पाकिस्तान को चोट पहुंचाई है उसके बाद से वह डरा और सहमा हुआ है. पहले बात-बात पर गीदड़भभकी देने वाला पाकिस्तान अब शांति की भीख मांग रहा है.

भारत और पाकिस्‍तान के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री ने बयान जारी किया है कि पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात करने को तैयार हैं. हालांकि भारत ने पाकिस्‍तान विदेश मंत्री के प्रस्‍ताव को ठुकरा दिया है. भारत ने कहा है कि वो पायलट की रिहाई किसी भी हाल में चाहता है.

विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई को लेकर भारत ने पाकिस्तान की किसी भी शर्त को मानने से इंकार कर दिया है. विदेश मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान अगर हमारे सामने किसी भी तरह का प्रस्ताव रखने की कोशिश कर रहा है तो यह गलत है. सूत्रों का कहना है कि इस मामले में पाकिस्तान कंधार जैसी परिस्थिति बनाने की कोशिश कर रहा है लेकिन विंग कंमाडर को लेकर भारत पाकिस्तान के साथ कोई समझौता नहीं करेगा.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को पाकिस्तानी संसद में भारत के साथ ताजा हालात पर बयान दिया है. इसकी जानकारी खुद उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में दी. कुरैशी ने कहा कि सेना प्रमुख ने भी सेना की सतर्कता और तैयारियों के बारे में बताया. शाह महमूद कुरैशी ने बताया कि चीन, ईरान और अन्य देशों के नेताओं ने भी तनाव की स्थिति को कम करने में अपनी मदद की पेशकश की. उन्होंने कहा कि हम युद्ध नहीं चाहते हैं. हमें उम्मीद है कि भारत सभी मुद्दों का हल निकालने के लिए बातचीत करेगा.

बता दें कि इससे पहले बुधवार शाम को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी भारत के साथ शांति की अपील की. इमरान खान ने अपने बयान में कहा है कि दहशतगर्दी के लिए हम अपनी जमीन का इस्तेमाल नहीं चाहते हैं. पुलवामा में जो हुआ वो अफसोसनाक है. इमरान ने कहा कि हम फिर भारत को बातचीत के लिए दावत देते हैं और कहते हैं कि पुलवामा के सबूत हमें दीजिए, हम हर मुमकिन कार्रवाई करेंगे.

इससे पहले बुधवार को इस्लामाबाद में कुरैशी ने एक विशेष सलाहकार की बैठक की अध्यक्षता की. बैठक में पूर्व विदेश सचिवों और राजनयिकों ने भाग लिया. बैठक में शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान शांति बहाली के लिए अपने कूटनीतिक प्रयासों को जारी रखेगा.

अमेरिकी विदेश मंत्री ने की बात

पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर भारतीय वायुसेना की जवाबी कार्रवाई के बाद पाकिस्तान की प्रतिक्रिया से दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है. अमेरिका, रूस, ब्रिटेन,चीन, फ्रांस और यूरोपीय संघ ने भारत और पाकिस्तान से अत्यधिक संयम बरतने और परमाणु शक्ति सम्पन्न दोनों पड़ोसी देशों से सैन्य गतिविधि बढ़ाने से बचने का आग्रह किया. तनाव बढ़ने से चिंतित अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने दोनों देशों के विदेश मंत्रियों से अलग- अलग बात की और उनसे सैन्य गतिविधि से बचने का आग्रह किया.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.